Skip to main content

Swa Sammoha For Complete Personality Development

स्व सम्मोहन ! अपने सम्पूर्ण विकास के लिए, क्या होता है स्व सम्मोहन?, अवचेतन मन को जानिये, स्व सम्मोहन के फायदे
स्व सम्मोहन ! अपने सम्पूर्ण विकास के लिए, क्या होता है स्व सम्मोहन?, अवचेतन मन को जानिये, स्व सम्मोहन के फायदे
Swa Sammoha For Complete Personality Development
हर व्यक्ति जीवन में सफलता चाहता है, हम सभी एक व्यवस्थित जीवन अपने साथियों, घर वालो के साथ जीना चाहते हैं। नाम, शोहरत, रुपैया, पैसा साधारनतया सभी की चाहत होती है। परन्तु बहुत ही कम लोग है दुनिया में जो ये सब हासिल कर लेते है। 
ये इसीलिए नहीं की उनके भाग्य में नहीं था परन्तु इसीलिए की उन्हें इसे प्राप्त करने का सही तरीका नहीं पता था। 
इस दुनिया में कुछ भी असंभव नही है, बस जरूरत है की हम सही प्रयास करे और हमारे अन्दर उस चीज को पाने का जुनून आ जाए। 
किसी ने क्या खूब कहा है की "अगर सब कुछ भाग्य में लिखा होता तो खुदा अपने बन्दों को दुआ माँगना क्यूँ सिखाता "
अतः सिर्फ भाग्य पर भरोसा करके बैठ जाना समझदारी नही है। अगर हमे कुछ पाना है तो हमे अपनी पूरी क्षमता से मेहनत करना होगा। सिर्फ मानव के पास ऐसी ताकत है की वह अपना भाग्य खुद बना सकता है। अगर मानव निश्चय करले तो वो कुछ भी कर सकता है। 
ऐसी कई विद्याये महान भारत देश में मौजूद है जिनका प्रयोग करके हम निश्चित ही एक सफल जीवन जी सकते है। 
एक महान संत कहते हैं की उठो जागो और अपने लक्ष्य की प्राप्ति तक मेहनत करते रहो। सभी महान लोगो ने एक ही सलाह दी है की लगातार कार्य करते रहो सफलता प्राप्त करने के लिए। मानव जीवन एक वरदान है और इसका हर एक क्षण कीमती है। अगर हम अपने महत्त्वपूर्ण समय को सही तरीके से प्रयोग करे तो इसमें कोई शक नहीं की हम एक बहुत ही सफल व्यक्ति बन जायेंगे

इस मानव जीवन में धर्म, अर्थ , काम और मोक्ष प्राप्त करना हमारा अधिकार है और इस संसार में भगवान ने वो सारे साधन दे रखे है जिससे की हम ये सब प्राप्त कर सकते है।

मै ये जरूर कहना चाहूंगा की हार का कारन सिर्फ भाग्य नहीं है अपितु हमारी अज्ञानता, आलस्यता, लापरवाही  आदि है। क्यूंकि भगवान् सभी को अपना आशीर्वाद बराबरी से देते है जैसे सूर्य सामान रूप से सभी को प्रकाश देता है।

इसीलिए अगर आप सफलता चाहते है, अगर आप एक मत्त्वापूर्ण छवि समाज में बनाना चाहते है, अगर आप अपने आपको आगे सशक्त व्यक्तित्त्व के रूप में प्रस्तुत करना चाहते है, अगर आप एक समृद्ध व्यक्ति  बनना चाहते है, तो चिना न करे।

एक ऐसा रास्ता है जो आपको वो सब कुछ दे सकता है जो आप आज सोचते हैं। एक ऐसा रास्ता है जो हमे ताकतवर बना सकता है, हमे सुन्दर बना सकता है, हमे समाज में अपना प्रभुत्त्व जमाने में हमारी मदद कर सकता है। हमे एक सफल व्यक्ति बनने में हमारी मदद कर सकता है।

इस लेख के द्वारा में एक ऐसा रहस्य बताने जा रहा हूँ जो की सफलता के रहस्य को आपके सामने खोल देगा। ये लेख उन लोगो के लिए है जो की सफलता प्राप्त करने के लिए कटिबद्ध हैं सकारात्मक तरीके से, ये लेख उन लोगों के लिए है जो वास्त्विक्रूप से सफलता प्राप्त करना चाहते है। ये उन लोगो के लिए है जो अपने आपको एक ताकतवर इंसान बनाना चाहते है और सही मायने में सफलता प्राप्त करना चाहते हैं। ये लेख उन लोगो के लिए है जो की स्व-सम्मोहन का चमत्कार देखना चाहते है और अपने जीवन को पूर्ण रूप से बदल देना चाहते हैं। 
स्व-सम्मोहन ! एक बहुत ही रोचक शब्द है जो की बदल देगा आपकी जिन्दगी को .........

जी हाँ !
  • हम अपने खुद के ताकत को बढ़ा सकते है बिना किसी बाहरी चीजो का इस्तेमाल करके। 
  • हम खुद का शशक्त व्यक्तित्व बना सकते है स्व-सम्मोहन के माध्यम से। 
  • हम अपने निश्चित किये हुए समय पर अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सकते हैं। 
  • स्व-सम्मोहन के माध्यम से हम अपने इच्छाओं को आसानी से पूरा कर सकते है। 
  • हम नाम, ऐश्वर्य, धन, शक्ति कुछ भी पा सकते है स्व-सम्मोहन के द्वारा। 
  • हम अपना पूरा जीवन  आसानी से जी सकते है। 
  • हम अपने जीवन के हर क्षण को जी सकते है स्व-सम्मोहन के माध्यम से। 
मै आपको कोई सपना नहीं दिखा रहा हूँ, बल्कि मै आपको वो रास्ता दिखा रहा हूँ जो आपको एक साधारण इंसान से एक सफल इंसान बना देगा। जो आपको खुद से परिचित करवाएगा, जो आपको ये बताएगा की आप हो क्या?, आपकी ताकते क्या है?
स्व-सम्मोहन को अगर आप नजर अंदाज कर रहे है तो शायद आप अपने जीवन में एक और शशक्त माध्यम को खो रहे है जो आपको पूर्ण रूप से सफल बना सकता  है . 

मै फिर से कहना चाहूंगा की ये बहुत ही कठिन कार्य है तो आप गलत हैं, स्व-सम्मोहन की क्रिया बिलकुल भी कठिन नहीं है, थोड़े से समय में आप अपने आपको एक बहुत ही मजबूत व्यक्ति के रूप में देखेंगे। 

क्या है ये स्व-सम्मोहन?
ये सवाल अधिकतर पूछा जाता है की आखिर क्या है ये, क्या ये वास्तव में हो सकता है?, क्या हम खुद के अन्दरवास्तव में शक्ती उत्पन्न कर सकते है बिना किसी बाहरी चीज के, क्या स्व-सम्मोहन के माध्याम से हम अपनी इच्छाओं को पूरी कर सकते हैं?
मैं हमेशा यही कहता हूँ की जी हाँ ये संभव है।
बहुत से लोग आज काफी अच्छी जिन्दगी जी रहे हैं इस विद्या का प्रयोग करके, वो जान चुके है की सच्चाई क्या है? उन्होंनेस्व-सम्मोहन की शक्ति को जान लिया है।

आइये जानते है कुछ स्व-सम्मोहन के बारे में -

सभी के अन्दर एक विशेष प्रकार की शक्ति विराजमान है और अगर सही प्रकार से अभ्यास किया जाए तो व्यक्ति उस शक्ति के माध्यम से कुछ भी कार्य कर सकता है बड़ी आसानी से।
आपने अक्सर देखा होगा की जब आपके अन्दर किसी चीज को पाने की इच्छा प्रबल हो जाती है तो आप उसे पूरी करने के लिए अपना जी जान लगा देते है और रास्ता भी आपको मिल जाता है। ऐसा क्यूँ होता है आपने कभी सोचा है क्यूंकि आपके अन्दर की शक्ति आपको रास्ता दिखा देती है परन्तु हमे पता  भी नहीं चलता है।
एक और उदाहरण देखते है अक्सर हम अपने बच्चों को कह देते है की बेटा अगर आप अच्छे नंबर लाओगे तो आपको इस बार एक विशेष उपहार देंगे। और बच्चा ऐसा कर दिखता है। ऐसा कैसे होता है इन्हें जांदे के लिए आपको गहनता से अपने मन को समझना होगा।

स्व-सम्मोहन वास्तव में अपने मन को नियंत्रित करने की एक विशेष प्रकार की विधि है। इसके द्वारा हम अपने मन, इन्द्रिय आदि को भली प्रकार से नियंत्रित कर सकते है।

इसमें खुद को की विशेष प्रकार से आदेश दिया जाता है और कुछ विशेष प्रकार के अभ्यास किये जाते है। जैसे जैसे साधक इसे करता जाता है उसे दिव्या अनुभव होने लगते हैं। वह और आगे बढता जाता है।
स्व-सम्मोहन, स्व-वशीकरण एक ऐसा शशक्त तरीका है जिसके द्वारा हम सभी पहलूओं में अपने आपको मजबूत बना सकते हैं। इसके द्वारा हम खुद को शक्ति प्रदान करते हैं, इसके द्वारा अपने अपने आपको जानते हैं। इसके द्वारा हम वास्तव में सफल हो सकते हैं।

 अवचेतन मन:
ये मनुष्य के अन्दर एक ऐसी जगह है जहां अगर कुछ चला गया तो वो हो जाता है। यहाँ तक अगर हम पहुँच गए तो हम कुछ भी कर सकते हैं।
अतः हमस्व-सम्मोहन के जरिये अवचेतन मन से संपर्क करना सीख जाते है। बहुत ही कठिन अभ्यास करना  पड़ता है परन्तु मुश्किल नहीं है। अगर एक बार हम ये सिख गए की किस प्रकार से अवचेतन मन काम करता है तो बस समझ लीजिये की आप जंग जीत जायेंगे। फिर कुछ असंभव नहीं दिखेगा।

स्व-सम्मोहन के कुछ फायदों को:

  1. इस विद्या के अभ्यास से आप हमेशा किसी भी परिस्थिति में शांत बने रह सकते हैं, दुसरे शब्दों में कहूँ तो आप हर परिस्थिति में  अपने आप पर नियंत्रण रख पा सकते हैं।
  2. आप अपने व्यक्तित्व को बहुत ही सुचारो रूप से विकसित कर सकते है ?
  3. स्व-सम्मोहन के जरिया आप छठी इन्द्रि को विकसित कर सकते है।
  4. आप अपने अन्दर कुछ ऐसी शक्तियों को पैदा कर सकते है जिनके जरिया आप अपने इच्छाओं को आसानी से पूरी कर सकते हैं।
  5. आप अपने आत्म विश्वास को बहुत अच्छी तरह से बडा सकते है।
  6. आप बहुमुखी प्रतिभा को बढा सकते हैं।
  7. आप अपने व्यक्तित्त्व को जबरदस्त तरीके से विकसित कर सकते हैं।
  8. आप मान-सम्मान, धन, वैभव अपने निश्चित किये हुए समय पर प्राप्त कर सकते हैं।
  9. स्व-सम्मोहन के माध्यम से आप अपने अन्दर के अद्भूत शक्तियों को देख पायेंगे।
स्व सम्मोहन के लिए ध्यान करना बहुत जरुरी है.

Read More Related Articles On:
Power of mind
Magical world of meditation

स्व सम्मोहन ! अपने सम्पूर्ण विकास के लिए, क्या होता है स्व सम्मोहन?, अवचेतन मन को जानिये, स्व सम्मोहन के फायदे.

Comments

Popular posts from this blog

Hindi Alphabets and Zodiac Sign | Raashi Akshar

Hindi Alphabets and Zodiac Sign | Raashi Akshar, Astrologer for solutions of all problems.

Want to know your zodiac sign, Want to know how you are affected by raashi or zodiac sign then this article will help you.

In vedic astrology with the first letter of alphabet we decide the raashi or zodiac sign. In whole the life person  has the impact of this zodiac sign. Here i am giving the list of alphabets and the related zodiac sign.

1. Zodiac Sign: Aries or मेष
Alphabets of Aries Or Mesha: चू , चे , चो , ला , ली , लू , लो , अ

 2. Zodiac Sign: Taurus or वृषभ
Alphabets of Taurus or Vrishabh : इ, उ , ए , ओ , वा , वी , वू , वे , वो

3.  Zodiac Sign: Gemini or मिथुन
Alphabets of Gemini or Mithun: का, की, कु , के, को, घ , ड़ , छ , हा

4.  Zodiac Sign: Cancer  or कर्क
Alphabets of Cancer or Karka: ही, हू , हे , हो, डा,डी , डू , डे , डो

5.  Zodiac Sign: Leo or सिंह
Alphabets of Leo or Singh: मा , मी, म़ू , में, मो, टा , टी, टू , टे

6.  Zodiac Sign: Virgo or कन्या
Alphabets of Virgo or Kanya: टो , …

Bird Feeding In Astrology To Enhance Luck

What is bird feeding means as per astrology, Free encyclopedia on birds feeding astrology, importance of giving food to birds, how to over come from planetary problems by feeding birds, what to give to birds to minimize the bad effects of planets?, Is bird feeding good, astrologer for analysis and solutions of problems. There are many people all over the world who like to feed birds daily and definitely it is a good way to make the other species familiar to us.
There is a difference between normal bird feeding and astrology bird feeding. In normal bird feeding we can give any thing to birds but when we provide special things or food to different types of birds on specific days then it can enhance luck and minimizes the impacts of malefic planets from your kundli/horoscope/birth chart.
There are 7 days and all the days are ruled by different planets and there are different food related to different planets so whenever any planet creates problems then it is good to feed the food related…

Grahan Yoga Effects and Powerful Remedies

Grahan Dosh or grhan yoga Effects and Remedies, How Grahan dosha forms, What are the effects of grahan dosha, Impact of Grahan dosha in family life, Impact of grahan dosha in Professional life, How grahan dosha affect the love life, Powerful remedies of Grahan dosha, Easy Solution of Grahan Dosha, Astrologer For Grahan Dosha Remedies. We sometimes find very important problem in horoscope that is known as grahan dosha. Because of grahan dosha many bad impacts are seen in personal and professional life. Person faces the problem of dissatisfaction in professional life. Person faces the problem of misunderstanding in personal life. children have the memory loss problem. Children in spite of doing hard work unable to get the good percentage in class due to grahan dosha. There is a chance of defame in society due to powerful grahan dosha. Some times grahan dosha ruin the business life too. Love relations are also affected due to grahan yoga. Some times diseases are not leaving the victim.In …